सवरा समाज राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे : जाति प्रमाण पत्र न बन पाने के कारण लाखों आदिवासी लाभ से वंचित

Today36garh

रायपुर : छत्तीसगढ़ की 12 अनुसूचित जनजाति जो कि 1950 में अधिसूचित के राजस्व रिकार्ड आदि में स्थानीय बोली भाषा , उच्चारण , स्थानीय बोलचाल आदि में दर्ज होने के कारण जाति प्रमाण पत्र नहीं बन पा रहा है । जिसके कारण आदिवासी होते हुए भी 12 अनुसूचित जनजाति के लाखों आदिवासी अपने संवैधानिक अधिकारों से वंचित है

     लाखों आदिवासी स्कूल शिक्षा , उच्च शिक्षा , मेडीकल , इंजिनीयरिंग , प्रबंधन , विधी , विज्ञान आदि जैसे महत्वपूर्ण कोर्सों में प्रवेश नहीं मिल पा रहा है । शासकीय सेवा सहित राज्य तथा केन्द्र सरकार की योजनाओं , सुविधाओं आदि का लाभ नहीं मिल पा रहा है तथा ग्रामीण स्तर से लेकर केन्द्रीय स्तर तक पंच , सरपंच , पार्षद , विधायक , सांसद सहित किसी भी राजनीतिक पदो पर आरक्षण नहीं मिल पा रहा है ।

     समाज के प्रतिनिधी मंडल स्थानीय सांसदों , विधायको , मंत्रियों , मुख्यमंत्री / पूर्व मुख्यमंत्री सहित छत्तीसगढ़ के माननीय राज्यपाल से मिलकर 2016 से लंबित बिल को पास कराने का निवेदन किया गया है गत माह सितम्बर में महामहिम राज्यपाल सुश्री अनुसूईया उईके महोदया ने 11 सितम्बर को प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी से विधेयक पास कराने का आग्रह किया तथा नवंबर माह में देशभर के माननीय राज्यपालों के सम्मेलन में उक्त लंबित बिल को पास कराने माननीय राष्ट्रपति महोदय को अवगत कराया गया तथा पुनः माननीय प्रधानमंत्री जी से भेंटकर लोकसभा में लंबित बिल को तत्काल पास कराने की जरूरत बताया है इसके पूर्व सामाजिक प्रतिनिधी मंडल ने आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री अर्जुन मुण्डा जी एवं श्रीमती रेणुका सिंह जी से 25-30 बार दिल्ली तथा क्षेत्र में मुलाकात कर बिल पास कराने निवेदन किया गया ।

  श्री अर्जुन मुण्डा जी ने छत्तीसगढ़ / बस्तर प्रवास पर प्रतिनिधी मंडल को बिल पास कराने का वचन दिया था । लेकिन आज दिनांक तक इस विषय पर किसी प्रकार की कार्यवाही नही किया गया और न ही बिल लोकसभा में प्रस्तुत करने की गतिविधी दिख रही है । ऐसे में अधिकार वंचित आदिवासी समिति छत्तीसगढ़ ने संकल्प लिया है कि अब इस संघर्ष / लड़ाई को सड़क पर लाकर अपनी समस्याओं का निराकरण किया जाये ।

   अधिकार वंचित आदिवासी सवरा समाज , बिझियां समाज , उरांव समाज , नगेसिया ( किसान ) . धनुहार , धांगड़ , उरांव , भुईयां , मरिया , कोडाकु कोड़ा ने दिनांक 16.12.2021 को जंतर मंतर में एक दिवसीय सांकेतिक धरना दिया । जिसके समर्थन के लिए राज्यसभा सांसद माननीय श्रीमती फुलोदेवी नेताम , राज्यसभा सांसद माननीय श्रीमती छाया वर्मा , एवं चन्द्रपुर विधायक माननीय श्री रामकुमार यादव ने दिल्ली जाकर उक्त मंच में अपना सर्मथन व्यक्त किया तथा सवरा समाज के संरक्षक जयदेव भोई ने केन्द्र सरकार को चेतावनी दी की यदि आगामी सत्र में लोकसभा में अनुसूचित जनजाति संशोधन विधेयक 2021 पास नहीं हुआ तो छत्तीसगढ़ में रेल रोको आन्दोलन किया जायेगा । उक्त विषय को लेकर दिनांक 20.12.2021 को श्रीमती छाया वर्मा राज्य सभा सांसद के नेतृत्व में सवरा समाज के प्रान्ताध्यक्ष श्री प्रेमलाल सिदार एवं फनीन्द्र भोई ( संवैधानिक सलाहकार ) महामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर विधेयक को पास करवाने के लिए निवेदन करेंगे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here