धान ख़रीदी में केंद्र राज्य गतिरोध : केंद्रीय खाद्य मंत्री से चर्चा करने दिल्ली जा रहे मंत्री भगत..उसना चावल .. बारदाना और चार हज़ार करोड़ बकाया की होगी बात..

Today36garh

रायपुर : राज्य सरकार के सामने जो मामले अब मसले बन रहे हैं उन में केंद्रीय नियम और निर्देश हैं । राज्य सरकार ने इस वर्ष 105 लाख मीट्रिक टन धान ख़रीदने का लक्ष्य रखा है । लेकिन केंद्र सरकार ने 61.5 लाख केवल अरवा चावल ख़रीदी को अनुमति दी है । उसना चावल को लेने से केंद्र ने साफ़ इंकार कर दिया है । प्रदेश में 1900 राईस मिल हैं , जिनमें 416 उसना की है , इनकी प्रतिमाह की क्षमता 5.93 लाख मीट्रिक टन है । मसला उसना का ही नहीं है , मामला बारदानों का भी है , लक्ष्य के अनुरूप बारदाना नहीं है , केंद्र ने अब तक केवल तीस प्रतिशत बारदाना ही दिया है ।
इसके अलावा केंद्र का कई वर्षों का लंबित भुगतान जो कि राज्य को मिलना है वह राशि क़रीब चार हज़ार करोड़ की हो चुकी है , इसमें चावल का बोरे का और मज़दूरी का खर्चा शामिल हैं जो कि राज्य का दावा है कि उसे मिला नहीं है।
मंत्री अमरजीत भगत ने कहा ” हम किसानों से धान ख़रीदने के लिए संकल्पित हैं , हमें बस सामान्य सहयोग चाहिए जो कि केंद्र को करने में कोई दिक़्क़त नहीं है , लेकिन हमें पता नही कि यह परेशानी क्यों खड़ी की जा रही है । मै आज जा रहा हूँ , कल केंद्रीय कृषि मंत्री और खाद्य मंत्री से मिल कर पूरा पक्ष रख कर आग्रह करूंगा कि मसले को सियासती नही बल्कि किसानों के दृष्टिकोण से ” सहानुभूतिपूर्वक देखें .. “

मंत्री अमरजीत भगत ने आगे कहा … और यदि कल मुलाक़ात नहीं हुई तो वहाँ रुक कर इंतज़ार करूंगा “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here