छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में लगभग तीन साल बाद भी प्रशिक्षित पटवारियों को नौकरी नहीं : करना पड़ रहा है आर्थिक तंगी का सामना

Today36garh

रायपुर : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में लगभग तीन साल बाद भी प्रशिक्षित पटवारियों को नौकरी नहीं मिली है। इसकी वजह से परेशान प्रशिक्षित पटवारियों ने धरना प्रदर्शन का सहारा लिया है।

प्रशिक्षित पटवारियों को तत्काल नियुक्त करने की मांग को लेकर रायपुर में प्रशिक्षित पटवारियों का धरना प्रदर्शन जारी है। जानकारी के मुताबिक प्रशिक्षित पटवारी छत्तीसगढ़ संघ ने रायपुर के बूढ़ा तालाब स्थित धरनास्थल पर धरना दिया। उन्होंने कहा की व्यापमं परीक्षा देने के 30 माह बाद भी नियुक्ति नहीं मिली है। नियुक्ति नहीं होने की वजह से हम मानसिक रूप से परेशान हैं और आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। प्रशिक्षित पटवारियों के लिए क्षतिपूर्ति की व्यवस्था की मांग की गई है।

प्रशिक्षित पटवारी संघ के चितरंजन महिलांगे ने बताया कि लगभग तीन साल पहले व्यावसायिक परीक्षा मंडल के द्वारा आयोजित परीक्षा में हमने हिस्सा लिया। इसके बाद प्रशिक्षित पटवारियों की नियुक्ति अभी तक नहीं की गई है। साथ ही यह भी मांग की है कि 70-80, 90% वाले फार्मूले से पटवारियों को मुक्त रखा जाए, क्योंकि अन्य नौकरियों की तरह पटवारियों को प्रशिक्षण के दौरान वेतन नहीं दिया जाता है। इस वजह से आर्थिक मार झेल चुके पटवारियों को न्याय संगत वेतन मिल सके।

इसके अलावा पटवारियों द्वारा यह भी मांग की गई है कि पटवारी प्रशिक्षण के साथ ही इनकी नियुक्ति प्रक्रियाओं की विसंगतियों में शासन सुधार करें, ताकि भावी प्रशिक्षुओं को इन जटिलताओं का सामना ना करना पड़े। इसके अलावा पूर्व वर्षों की तरह इस वर्ष भी अनुत्तीर्ण प्रशिक्षित पटवारियों को अस्थाई नियुक्ति देने की मांग की गई है। मांगें पूरी नहीं होने तक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here