Tokyo Paralympics : नोएडा डीएम सुहास ने रचा इतिहास:फाइनल में स्वर्ण की आस

Today36garh

रायपुर (एजेंसी) : टोक्यो पैरालंपिक में बैडमिंटन खिलाड़ी सुहास यतिराज ने फाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया है. बैडमिंटन मेन्स सिंगल्स के एसएल4 क्लास सेमीफाइनल में सुहास ने इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतिवान को सीधे सेटों में 2-0 से हराया।

नोएडा के डीएम सुहास यतिराज ने सेमीफाइनल मुकाबला सिर्फ 30 मिनटों में 21-9, 21-15 से जीता. सुहास से पहले प्रमोद भगत भी एसएल3 क्लास के फाइनल में पहुंचे हैं. अब तक कोई भी भारतीय खिलाड़ी ओलंपिक या पैरालंपिक खेलों में बैंडमिटन में गोल्ड मेडल जीतने का कारनामा नहीं कर सका है. अब प्रमोद और सुहास के पास भारत की तरफ से बैडमिंटन में पहला गोल्ड जीतने का मौका है.

15वां पदक पक्का

फाइनल में पहुंचते ही सुहास ने भारत का 15वां पदक पक्का कर दिया है. भारत ने टोक्यो पैरालंपिक में अब तक दो गोल्ड, छह सिल्वर और पांच ब्रॉन्ज मेडल जीता है. बैडमिंटन में लंदन ओलंपिक 2012 में साइना नेहवाल ने कांस्य, रियो 2016 में पीवी सिंधु ने सिल्वर और टोक्यो 2020 में सिंधु ने कांस्य पदक जीता था. फाइनल में पहुंचते ही सुहास यतिराज प्रमोद भगत के बाद ओलंपिक या पैरालंपिक खेलों में बैडमिंटन में मेडल जीतने वाले दूसरे पुरुष खिलाड़ी बन गए हैं. सुहास और प्रमोद का कम से कम सिल्वर मेडल पक्का हो चुका है. फाइनल में उनके पास मेडल का रंग बदलने का मौका है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here