किसान आंदोलन: अब छत्तीसगढ़ में भी उबाल,भारत बंद की तैयारी जोर -शोर से

Today36garh

रायपुर: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को रद्द कराने समेत अन्य मांगों को लेकर जारी किसान आंदोलन का 26 सितंबर को दस महीने पूरा हो रहा है। साथ ही किसान आंदोलन के समर्थन में किए गए भारत बंद को 25 सितंबर को एक साल पूरा हो जाएगा।

आंदोलन के इन दिनों में केंद्र की मोदी सरकार और हरियाणा राज्य की खट्टर सरकार ने किसानों की मांग मानने की बजाय क्रूरता का परिचय दिया है। जिसके खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत बंद का आह्वान किया है, जिसे छत्तीसगढ़ में सफल बनाने आह्वान किया है।

आज छत्तीसगढ़ के विभिन्न किसान, मजदूर और नागरिक संगठनों की बैठक ‘मां दंतेश्वरी हर्बल किसान समूह’ के रायपुर कार्यालय ‘हर्बल इस्टेट’ के परिसर में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता जिला किसान संघ बालोद के संयोजक व पूर्व विधायक जनक लाल ठाकुर ने किया तथा संचालन अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के सचिव व छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के संयोजक मंडल सदस्य तेजराम विद्रोही ने किया। बैठक में खेती बचाओ आंदोलन के टिकेश्वर साहू, अखिल भारतीय किसान खेत मजदूर संगठन के विश्वजीत हारोड़े, आदिवासी भारत महासभा से सौरा, अखिल भारतीय किसान महासंघ (आईफा) के राष्ट्रीय संयोजक डॉ राजाराम त्रिपाठी, छत्तीसगढ़ खेतीहर मजदूर किसान मोर्चा से ठाकुर रामगुलाम सिंह, किसान विकास संघ से रघुनंदन साहू, छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के संचालक मंडल सदस्यों पारसनाथ साहू, गजेंद्र कोसले, हेमंत टंडन, वेगेंद्र सोनबेर, डा ईश्वर दान व संदीप के साथ-साथ अठारह संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। बैठक में करनाल हरियाणा में किसानों के ऊपर हुए लाठी चार्ज की घोर निन्दा की गई और शहीद किसानों को श्रद्धांजलि दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here