6 सितंबर से अब छठवीं और सातवीं तथा नवमीं और ग्यारहवीं की कक्षाएं भी लगाने की तैयारी

Today36garh

रायपुर: 6 सितंबर से अब छठवीं और सातवीं तथा नवमीं और ग्यारहवीं की कक्षाएं भी लगाने की तैयारी है । इसका निर्णय हो चुका है । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पास फाइल पहुंच चुकी है । बताते हैं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी स्कूल शिक्षा विभाग के प्रस्ताव पर सहमति दे दी है । इससे पहले दो अगस्त को राज्य सरकार ने पहली से पांचवीं , आठवीं और दसवीं तथा बारहवीं की कक्षाएं लगाने का निर्णय लिया था । स्कूलों के साथ ही सभी आवासीय हॉस्टल भी खोले जा सकते हैं । यानी 17 महीने बाद स्कूल पूरी तरह शुरू हो जाएंगे ।

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ . प्रेमसाय सिंह टेकाम ने स्वीकार किया कि बची कक्षाएं भी खोली जा रही हैं । कैबिनेट बैठक की औपचारिकता बाकी है । प्रदेश में कोरोना का असर अब एक फीसदी से भी नीचे गिर गया है । महीनेभर पहले प्रारंभ की गई क्लासेस निर्बाध रूप से चल रही हैं । इनमें बच्चों की उपस्थिति भी अच्छी है । इस वजह से शासन से छठवीं , सातवीं , नवमी और ग्यारहवीं कक्षाएं भी शुरू करने की अनुमति मांगने नोटशीट चलाई गई । डीपीआई डॉ . कमलप्रीत सिंह ने कहा कि अनुमति मिलते ही  स्कूल कॅरोना गाइडलाइन के शर्तों पर खोले जाने की अनुमति मिल सकती है।

एसओपी के अनुसार पढ़ाई प्रारंभ हो जाएगी । मालूम हो कि एमपी में भी पूरे स्कूल खोलने पर विचार चल रहा है ।

अभी ये हो रहा :

ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों तरह से शालाओं का संचालन हो रहा है । अंदरूनी इलाकों व गांव में प्राइमरी व मिडिल स्कूलों को किताबें , भोजन व दूसरी सुविधाएं देने खोले गए हैं । ट्राइबल हास्टल , आंगनबाड़ियों को खोल दिया गया है , ताकि बच्चों को पौष्टिक भोजन मिलता रहे ।

ये एसओपी लागू है :

कोविड फ्री ग्राम पंचायतों को प्राइमरी स्कूल खोलने का अधिकार , दो गज दूरी बनाकर रखना , मास्क की अनिवार्यता , स्कूलों में 50 प्रतिशत उपस्थिति , हाजिरी की अनिवार्यता नहीं , शिक्षकों व स्टाफ के लिए वैक्सीनेशन कैंपेन , स्कूलों का सेनिटाइजेशन , बच्चों व शिक्षकों से स्कूल में लगातार हाथ धुलवाना आदि । ऐसी ग्राम पंचायतें जो कोविड फ्री हैं । वहां पालकों की अनुमति से आठवीं से बारहवीं तक क्लासें खोलना । यदि मरीज मिला तो स्कूल बंद करना ।  सरकारी स्कूल काफी बड़े हैं । उनमें 50 प्रतिशत उपस्थित रहते हैं , तब भी बच्चे आसानी से डिस्टेंस बना सकेंगे ।

“कई स्कूलों में दर्ज संख्या कम है , वहां एक पाली में पढ़ाई कराना । कई कक्षाएं एक महीने से चल रहीं , कोई दिक्कत नहीं • एक माह हो गए हैं कुछ कक्षाओं को शुरू हुए । कहीं से कोई दिक्कत नहीं आई है , सब ठीक है । इसे देखते हुए हमने 6 वीं , 7 वीं 9 वीं और 11 वीं की कक्षाएं शुरू करने की अनुमति मांगी है ।” -डॉ.आलोक शुक्ला , प्रमुख सचिव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here