खुशखबरी:और नए 4 जिलों के गठन की संभावनाएँ हुई प्रबल

 

Today36garh

*स्थानीय जनभावनाओं और राजनैतिक सन्तुलन के मद्देनजर लिया जाएगा निर्णय

रायपुर:छत्तीसगढ़ में 4 और नए जिलों के गठन की संभावनाएं तेज हो गई हैं । प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार प्रतापपुर , वाड्रफनगर , भाटापारा , पत्थलगांव , खैरागढ़ , पंडरिया , सरायपाली , भानुप्रतापपुर में से कोई चार संभावित जिले हो सकते हैं । भविष्य में राज्य स्थापना दिवस या चुनाव के ठीक पहले इनका ऐलान हो सकता है ।

दरअसल , इस चर्चा को बल इसलिए मिला , क्योंकि हाल ही में स्पीकर डॉ . चरणदास महंत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में 36 जिले होंगे और इन 4 नए जिलों को लेकर उनकी सीएम बघेल से चर्चा हुई है । इससे सरकार की मंशा है कि छोटे जिलों के जरिए प्रशासन जनता व जनता प्रशासन के करीब हो । इनमें से कुछ नए जिले के राजनीतिक कारण हैं । संकेत हैं कि स्वतंत्रता दिवस के दिन 4 नए जिलों व नई तहसीलों के आकार और सीमाएं तय हो जाने के बाद 4 और जिलों का खाका तैयार होने लगेगा । मंत्रालय के गलियारों में तैर रही खबरों पर यकीन करें तो सरकार के इशारे पर ही अधिकारी नए जिलों की संभावना तलाशने में लगे हैं ।

फिलहाल ये हैं 32 जिले

रायपुर , बिलासपुर , दुर्ग , बलौदाबाजार – भाटापारा , गरियाबंद , महासमुंद , धमतरी , कांकेर , बस्तर , कोंडागांव , दंतेवाड़ा , सुकमा , नारायणपुर , बीजापुर , कबीरधाम , मानपुर – मोहला , राजनांदगांव , मुंगेली , बेमेतरा , बालोद , बलौदाबाजार , बलरामपुर , पेंडा – गौरेला – मारवाही , रायगढ़ , सरगुजा , मनेंद्रगढ़ , सारंगढ़ – बिलाईगढ़ , सक्ती , कोरिया , कोरबा , जशपुर , जांजगीर – चांपा ।

इस तरह चलती है जिले के गठन की प्रक्रिया

*सरकार के फैसले की जानकारी सीएस राजस्व विभाग को देंगे।
*राजस्व विभाग इसके लिए वित्त विभाग से आबंटन मांगेगा

* नए जिलों के प्रस्ताव पर कैबिनेट में विचार – विमर्श व संशोधन होगा ।

*राजपत्र में होगा प्रकाशन , किसी अधिकारी को ओएसडी बनाया जाएगा ।

*जनता से दावे – आपत्तियां भी मंगवाई जाएंगी ।

*आवंटन जारी होने पर स्थापना व्यय , अधिकारियों – कर्मचारियों की पदस्थापना खाली नए पदों पर भर्ती , फर्नीचर व अन्य इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार होगा इसके बाद

*पहले ओएसडी और फिर नए कलेक्टर नियुक्त होगी । .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here