नव घोषित मनेन्द्रगढ़ जिला अब मनेन्द्रगढ़ – चिरमिरी – भरतपुर के नाम से जाना जाएगा:बघेल

रायपुर/मनेंद्रगढ़: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि नव घोषित मनेन्द्रगढ़ जिला अब मनेन्द्रगढ़ – चिरमिरी – भरतपुर के नाम से जाना जाएगा ।न मुख्यमंत्री निवास में आयोजित कार्यक्रम में सक्ती और मनेन्द्रगढ़ जिले से आए नागरिकों ने मुख्यमंत्री बघेल को नया जिला बनाए जाने पर उनका आभार व्यक्त किया । मनेन्द्रगढ़वासियों ने मुख्यमंत्री का मुकुट पहनाकर अभिनंदन किया । नागरिकों ने इस अवसर पर उन्हें अभिनंदन पत्र भी भेंट किया । कार्यक्रम में दोनों नव घोषित जिलों से आए नागरिकों और विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने नये जिले बनाए जाने पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ . चरण दास महंत के प्रति भी आभार व्यक्त किया ।

सक्ती जिले से आए जनप्रतिनिधियों , नागरिकों और विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और डॉ . चरणदास महंत का पोट्रेट भेंट कर और शाल पहनाकर जिला निर्माण के लिए उनका अभिनंदन किया । मुख्यमंत्री ने दोनों नव घोषित जिलों से आए ” रिकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि जिला बनने से वहां के नागरिकों का माटी के प्रति प्रेम देखने को मिल रहा है । लोगों ने जिस उत्साह से नए जिले का स्वागत कर रहे हैं , उससे इस बात का अंदाजा लगा सकते है कि वहां किस प्रकार की खुशी का वातावरण होगा ।

नए जिले के निर्माण के साथ – साथ इन जिलों में शिक्षा , स्वास्थ्य , रोजगार सहित सभी क्षेत्रों में विकास के काम तेजी से होंगे । मुख्यमंत्री ने मनेन्द्रगढ़वासियो की मांग और उनकी भावनाओं को देखते हुए नव घोषित मनेन्द्रगढ़ जिले का नाम मनेन्द्रगढ़ – चिरमिरी – भरतपुर किए जाने की घोषणा की । उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ भौगोलिक दृष्टि से देश का 9 वां बड़ा राज्य है , कई क्षेत्रों में विरल आबादी है । इसके कारण शासकीय योजनाओं को आम जनता तक पहुंचाने में कई प्रकार की दिक्कत आती है । उन्होंने कहा कि राज्य में प्रशासन और आम जनता के बीच की दूरी कम करने और प्रशासनिक कसावट लाने के लिए नए जिलों का गठन किया गया है । मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि गांवों को स्वावलंबी बनाकर ही हम समृद्ध , सशक्त और खुशहाल छत्तीसगढ़ की कल्पना कर सकते हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here