छत्तीसगढ़ में अब शुरू होगा ‘स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम आदर्श महाविद्यालय’

0
9

रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल योजना के बाद अब स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम आदर्श महाविद्यालय शुरू करने का फैसला किया है. जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी.
अधिकारियों ने बताया कि राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम आदर्श महाविद्यालय शुरू करने का फैसला किया है.

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसके लिए मुख्य सचिव को 10 दिनों के भीतर कार्ययोजना प्रस्तुत करने का निर्देश दिया  है. अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री बघेल ने मुख्य सचिव से कहा है कि राज्य में अंग्रेजी माध्यम के अनेक निजी और शासकीय स्कूल संचालित किये जा रहे हैं. राज्य में अंग्रेजी माध्यम के शासकीय महाविद्यालय न होने के कारण राज्य के विद्यार्थियों को 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उच्च शिक्षा के लिए महानगरों के महाविद्यालयों में प्रवेश लेना पड़ता है जिसमें बड़ी राशि व्यय होती है.

उन्होंने बताया कि बघेल ने मुख्य सचिव से कहा कि राज्य के विद्यार्थियों को राज्य में ही अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा देने के लिए स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों की तरह ही स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम आदर्श महाविद्यालय भी आरंभ किये जाएं. इन महाविद्यालयों की चरण बद्ध स्थापना की जाए.

बघेल ने कहा है कि प्रथम चरण में आगामी शैक्षणिक सत्र (जून 2023) से राज्य के प्रमुख नगरों में कम से कम 10 अंग्रेजी माध्यम कॉलेज खोले जाएं. इसी तरह आगामी तीन वर्षों में राज्य के सभी जिला मुख्यालयों में अंग्रेजी माध्यम कॉलेज खोलने की कार्ययोजना 10 दिनों में प्रस्तुत की जाए.

वहीं मुख्यमंत्री बघेल ने ट्वीट किया, ”मैं पिछले दिनों कई अभिभावकों से मिला. सबका कहना था कि कांग्रेस सरकार में शानदार अंग्रेजी और हिन्दी माध्यम सरकारी स्कूल बने हैं. लेकिन 12वीं के बाद उनके बच्चे कहां पढ़ेंगे, इसकी ंिचता उन्हें सता रही रही है. क्योंकि महानगरों में बच्चों को पढ़ाना महंगा है. इसलिए हमने निर्णय लिया है कि अंग्रेजी माध्यम के सरकारी महाविद्यालय खोले जाएंगे.’’ उन्होंने कहा कि पहले 10 प्रमुख नगरों में इसकी शुरुआत होगी, फिर अगले तीन साल में हम हर जÞलिा मुख्यालय में इसे खोलेंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब अभिभावकों को ंिचता करने की जरूरत नहीं और अपने बच्चों को खूब पढ़ाइए. उन्होंने कहा कि स्कूल के बाद की शानदार पढ़ाई के लिए बच्चों को बाहर भेजने की आर्थिक परेशानी दूर होगी. बघेल ने दावा किया कि छत्तीसगढ़ की शिक्षा क्रांति देश का सबसे अच्छा ‘एजुकेशन मॉडल’ आने वाले समय में प्रस्तुत करेगी.”

अधिकारियों ने बताया कि स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल योजना शैक्षणिक सत्र 2020-21 से प्रारंभ की गई है. इस योजना के तहत 279 स्कूल संचालित किए जा रहे हैं. इनमें 32 स्कूल हिन्दी माध्यम के हैं तथा 247 विद्यालयों में हिन्दी के साथ अंग्रेजी माध्यम से भी शिक्षा दी जा रही है. उन्होंने बताया कि इस वर्ष दो लाख 52 हजार 600 बच्चों ने इन विद्यालयों में प्रवेश लिया है, जिसमें एक लाख तीन हजार बच्चे अंग्रेजी माध्यम तथा एक लाख 49 हजार 600 बच्चे हिन्दी माध्यम के हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here