राष्ट्रपति पद के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत सभी 90 विधायकों ने किया मतदान

0
8

रायपुर. छत्तीसगढ़ के विधानसभा परिसर में सोमवार को राष्ट्रपति पद के लिए हुए मतदान में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत सभी 90 विधायकों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव में सोमवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत, राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य, विपक्ष के नेता धरमलाल कौशिक, पूर्व मुख्यमंत्री रमन ह समेत सभी 90 विधायकों ने विधानसभा भवन के समिति कक्ष क्रमांक-दो में बनाए गए मतदान केंद्र में अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

उन्होंने बताया कि राज्य के कुरूद विधानसभा क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी के विधायक अजय चंद्राकर ने सबसे पहले अपने मताधिकार का प्रयोग किया. शाम तक सभी विधायक मत दे चुके थे. अधिकारियों ने बताया कि मतदान का समय सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक निर्धारित था. शाम पांच बजे मतदान समाप्ति के बाद मत पेटी को सील किया गया. मत पेटी को रात 9.15 बजे विमान से नई दिल्ली भेजा जाएगा. मतों की गिनती 21 जुलाई को नई दिल्ली में की जाएगी.

राष्ट्रपति पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की ओर से द्रौपदी मुर्मू तथा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की ओर से पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा उम्मीदवार हैं. अधिकारियों ने बताया कि आज सुबह सबसे पहले मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी पी दयानंद की मौजूदगी में निर्वाचन अधिकारियों ने स्ट्रांग रूम से मतपेटी को पूरी सुरक्षा में निकालकर मतदान केंद्र में पहुंचाया. इस दौरान सत्ता पक्ष के विधायक मोहित केरकेट्टा और विपक्ष के विधायक डॉक्टर कृष्णमूर्ति बांधी भी मौजूद रहे.

दोनों विधायकों को पहले मतपेटी को बक्से से निकाल कर खाली होने की पुष्टि के लिए अवलोकन कराया गया. इसके बाद निर्वाचन अधिकारियों ने मतपेटी को टेग और फ्लैग लगाकर सील किया. इससे पहले दोनों उपस्थित विधायकों और निर्वाचन अधिकारियों ने मतपेटी के सींिलग टेग पर हस्ताक्षर भी किए.

उन्होंने बताया कि भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के लिए लोकसभा, राज्यसभा के निर्वाचित सांसदों और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र तथा पुडुचेरी संघ राज्य क्षेत्र सहित सभी राज्यों के निर्वाचित विधानसभा सदस्य मतदान करते हैं. अधिकारियों ने बताया कि इस निर्वाचन में भिन्न-भिन्न राज्यों के प्रतिनिधित्व के मान में एकरूपता और समतुल्यता प्राप्त करने के लिए संसद और प्रत्येक राज्य की विधानसभा के प्रत्येक निर्वाचित सदस्य के मत के मूल्य के लिए प्रत्येक राज्य की जनसंख्या पर आधारित एक फार्मूला तैयार किया गया है. इसके अनुसार इस निर्वाचन में एक सांसद के मत का मूल्य 700 है, जबकि छत्तीसगढ़ के विधायकों का मत मूल्य 129 है.

उन्होंने बताया कि वर्तमान निर्वाचक मंडल में 233 राज्यसभा सदस्य, 543 लोकसभा सदस्य और 4033 राज्य विधानसभाओं के सदस्यों सहित कुल 4809 सदस्य हैं. छत्तीसगढ़ के 90 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 71, भारतीय जनता पार्टी के 14, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के तीन और बसपा के दो विधायक हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here